पठन कौशल का महत्व (बेहतर समझें) | importance of reading skills in hindi

पठन कौशल का महत्व : अपने पिछले लेख में हमने पठन कौशल क्या है. इसके बारे में बताया था इस लेख में हम पठन के महत्व पर चर्चा करेंगें… पठन देखने, सुनने और समझने की प्रक्रिया है. पठन के माध्यम से ही एक इंसान, बेहतर इंसान बन पाता है. पठन का हमारे जीवन में कितना महत्व है. चलिए जानते हैं.

पठन कौशल का महत्व – importance of reading skills hindi

अपने जीवन में हम केवल देख और सुनकर ही ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकते. पूरी तरह से परिपूर्ण और उत्सुकता को संतुष्ट करने वाली ज्ञान की प्राप्ति के लिए पठन अर्थात पढ़ना आवश्यक है.

पठन के माध्यम से ही भाषा का विकास संभव है. ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है जहाँ पठन (reading) का महत्व ना हो क्योंकि पठन के माध्यम से ही हम अपने विचारों को अभिव्यक्त करने की क्षमता प्राप्त करते हैं.

पठन का महत्व

  • पठन का प्रमुख महत्व शिक्षा की प्राप्ति है. हम लिखित शब्दों को पढ़कर ही शिक्षा प्राप्त करते हैं.
  • पठन कौशल के बिना प्राचीन साहित्यों, किताबों, मनोरंजन किताबों आदि का आनंद ले पाना असंभव है.
  • पठन व्यक्ति को एक सभ्य व्यक्ति बनाता है.
  • सामाजिक कुशलता के लिए पठन कौशल का विशेष महत्व है.
  • लिखित भाषाओँ (हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, इत्यादि) को सीखने व समझने के लिए पठन कौशल आवश्यक है.
  • पठन कौशल के द्वारा अक्षरों को ध्वनि के रूप में बदलता जाता है.
  • पठन कौशल का महत्व धन प्राप्ति के लिए भी आवश्यक है.
  • व्यक्ति के विकास, मनोरंजन, skills में सुधार, व्यापार में सुधार , समस्याओं के समाधान इत्यादि के दृस्टि से पठन कौशल का विशेष महत्व है.
  • किसी भी प्रकार के संदेस को पढ़ने के लिए पठन आवश्यक है.
  • कॅरियर के चुनाव के लिए पठन कौशल महत्वपूर्ण है. अपने कॅरियर निर्माण संबंधित पुस्तकों को पढ़कर ही हम जानकारी एकत्रित करते हैं.
  • ज्ञान के विस्तार के लिए पठन का विशेष महत्व है. हम पढ़कर ही दूसरों को समझा सकते हैं बता सकते हैं और लिख सकते हैं.
  • इत्यादि पठन के अनेक महत्व हैं.

पठन कौशल का उद्देश्य – Purpose of Reading Skills hindi

पठन कौशल का निम्न उद्देश्य हैं –

  • सभी अक्षरों, वर्णों, शब्दों की पहचान और जानकारी पठन का उद्देश्य है.
  • पढ़कर लेख के भाव को बेहतर तरीके से समझना
  • शब्द धवनियों की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करना
  • स्वयं को पठन के काबिल बनाना तथा दूसरों को भी सीखाना
  • ध्वनि के हाव-भाव को समझना, (जैसे – किस शब्द के लिए तेज़ आवाज उपयोग किया जाये और किसी शब्द के लिए धीमा)
  • पठन कौशल का उद्देश्य – सभी प्रकार के चिन्हों जैसे – अर्ध विराम, पूर्ण विराम, विराम इत्यादि का ज्ञान प्राप्त किया जा सके.
  • मूल भाव को समझने और दूसरों को समझाने में.
  • लेख में हुए गलतियों का निवारण करने के लिए
  • मानसिक एकाग्रता प्राप्त करने के लिए.
  • व्यक्ति के अंदर आत्म विश्वास विकसित करने के लिए.
  • etc.

निष्कर्ष

आज के समय में… प्रायः सभी लोग शिक्षा और पठन के महत्व को समझते हैं. अपने जीवन के बेहतर संचालन तथा आनंदमय जीवन यापन के लिए पठन आवश्यक है.

पठन अर्थात पढ़ने में एक विशेष प्रकार के रस, आनंद है जो मनुष्य की उत्शुकता को तृप्त करता है.

आखिर में

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पठन कौशल का महत्व या पठन का महत्व (importance of reading skills in hindi) पसंद आये. जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य shear करें.

इसी तरह के उपयोगी लेख पढ़ते रहने के लिए हमारा टेलीग्राम ग्रुप और जीमेल सब्स्क्राइब कर लें जो बिल्कुल फ्री हैं. आप अपने किसी भी प्रकार का सवाल हमे कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं.

पठने और हमारा लिखना साकार करने के लिए… धन्यवाद,

अन्य पढ़ें

Leave a Comment