पठन कौशल क्या है | what is reading skills in hindi

दोस्तों पढ़ना भी अपने आप में एक कला है एक अच्छा पढ़ने वाला (अच्छा पठन) Reading skills से संपन्न व्यक्ति लिखने की कला को भी बेहतर तरीके से समझ पाता है, वो कहते हैं ना कि एक अच्छा रीडर ही एक अच्छा राईटर होता है। 

पठन कौशल क्या है, पठन क्या है? (what is reading skills & what is reading)

पठन के सम्बन्ध में विस्तार पूर्वक जानने के लिए सबसे पहले यह जानते हैं कि पठन कला क्या है ?

पठन (reading) – का तात्पर्य लिखे हुए या printed शब्दों को देखने तथा समझने से है, इससे सुनने एवं बोलने की कला का भी विकास होता है। यह सभी भाषाओँ के reading पाठ्य और पाठक के बीच एक complex interaction है जो पाठक को knowledge, attitude और experience से भर देता है। 

पठन कौशल/पढ़ने की कला (reading skills) में निपुण होने के लिए आवश्यक है ?

  • अभ्यास (Practice)
  • शोध (Refinement)
  • विकास (Development)

पठन के प्रकार/पढ़ने के तरीके (Types of Reading)

दोस्तों पढ़ने की कला को बेहतर तरीके से समझने के लिए यह जानना बहुत ही आवश्यक है की पढ़ने के कितने तरीके हैं या पठन के कितने प्रकार है ?
अगर आप student हैं या फिलहाल के लिए student नहीं भी है फिर भी अपने पढाई life में आपने देखा होगा कि हम धीरे-धीरे (मन-ही-मन में) पढ़ते थे या तो ऊचे स्वर में (आवाज निकाल कर या जोर से) इससे साबित है कि पढाई के लिए दो प्रकार के तरीकों उपयोग किया जाता है, आइये इन्हे अच्छे से जानते हैं। 

धीरे-धीरे पढ़ना (मन ही मन में) 

यह पढ़ने का सबसे best तरीका है, इसमें मुँह से बिना कोई आवाज निकाले केवल आँखों को शब्दों के अनुसार आगे पीछे करना होता है और मन में ही याद करना होता है, इससे आप बिना किसी को disturb किये बेहतर तरीके से याद किया जा सकता है।

ऊँचे स्वर में या आवाज निकालकर पढ़ना 

इस तरीके में लिखे गए शब्दों को लाउड रूप से बोलकर पढ़ा जाता है इस तरीके से भी अपने फायदे हैं। newsreader में करियर बनाने वाले के लिए ऊचे स्वर में पड़ना फायदेमंद है। ऊचे स्वर में पढ़ने से शब्दों का उच्चारण, वर्तनी आदि अच्छा होता है और बोलने की skills का विकास होता है। 

हमारे दैनिक जीवन में पठन कौशल का महत्व (Importance of reading skills in our daily lives)

जो लोग जिज्ञासु स्वाभाव के होते हैं वे हमेशा जानने सीखने के लिए Ready रहते हैं। अगर कोई भी व्यक्ति अपने reading skills को इतना upgrade कर ले और उसे अपने daily routine में उपयोग करने लगे तो कोई reason नहीं है कि वह अपनी life में सफल ना हो। जो व्यक्ति जितना ज्यादा learn करेगा वह उतना ही earn करेगा चाहे वह पैसा हो या ज्ञान हो। 
 

पठन कौशल का विज्ञापन में उपयोग (Use of reading skills in advertising)

विज्ञापन के क्षेत्रों में भी पठन कौशल का भरपूर उपयोग साइन बोर्ड और होर्डिंग के लिए किया जाता है। इसके अंतर्गत अनेक प्रतिक चिन्ह, खतरे का निशान सावधानी का निशान अन्य अनेक चीजे हैं। 
 

पठन कौशल का उपयोग फार्म भरने में (Use of reading skills to fill the form)

इस प्रक्रिया के माध्यम से सूचनाओं का एकत्रीकरण किया जाता है। जिसमे पठन की विशेष महत्व है क्योंकि इसी से हम फॉर्म को पूरी तरह से भर सकते हैं उसके रिक्वायरमेंट के आधार पर। 
 

पठन कौशल और नोटिस निर्माण (Reading skills and notice building)

सामान्य लोगों तक aware पहुंचाने के लिए activity या proposed program के सन्दर्भ में अवगत कराया जाता है इसकी आवश्यकता कहीं भी और किसी भी को हो सकती है इसलिए यह आवश्यक है। 
 

पढ़ने का महत्व (Importance of reading in hindi)

Reading वह skill है जिससे व्यक्ति हमेशा कुछ ना कुछ Gain करता ही रहता है। आप इतिहास उठा कर देख लो जिस व्यक्ति ने reading को अपने hobby के रूप में अपनाया है उन्होंने अपने subject व topic में ना होते हुए भी Unique कर दिखाया है इसलिए reading skill को नाकारा नहीं जा सकता। 
 
यह एक बेहतर communication skills के जरुरी है क्योंकि किसी व्यक्ति की reading skill उसकी सफलता को सुनिश्चित करती है। अच्छे reader ना केवल individual बात को समझता है बल्कि उसके साथ ही organisational ढांचे को भी समझ लेता है। अनेक topics या main ideas में से key words को निकाल पाने की skills पढ़ने से ही आती है। 

आखिर में :

आपने इस लेख में जाना की पठन या पढ़ने का कौशल क्या है और पढाई हमारे लिए किस प्रकार जरुरी है अगर आपको हमरा Reading skills in hindi लेख अच्छा लगा हो तो इसे shear अवश्य करें और comment box में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें। 

Leave a Comment