असंतोष से आप क्या समझते हैं? असंतोष के लिए जिम्मेदार कारक?

असंतोष शब्द को समझाइये | असंतोष पद्धति से क्या-क्या लाभ होता है | परिवेदना या असंतोष क्या है

असंतोष या परिवेदना – परिवेदना (Grievance) शब्द को कभी विस्तृत अर्थ में समझा जाता है तो कभी संकुचित अर्थ में. जब विस्तृत अर्थ में समझा जाता है तो “परिवेदना कोई भी असंतोष है जो उत्पादकता को प्रभावित करता है. (व्यापार ज्ञान के सन्दर्भ में)

असंतोष क्या है?

विस्तृत अर्थ में किसी भी कर्मचारी का कोई भी असंतोष चाहे वह परिवार, मित्र, नियोक्ता, समाज या अन्य किसी से भी संबंधित है, जो उसकी उत्पादकता में कमी लाता हो परिवेदना (असंतोष) कहलाती है.

परन्तु परिवेदना की ऐसी परिभाषा को कोई भी संस्था स्वीकार नहीं कर पाती है. इसका कारण यह है की किसी भी संस्था के पास ना तो इतने साधन ही होते हैं और न इतनी क्षमता एवं ना इतना समय होता है की वे कर्मचारी की सभी परिवेदनाओं को हल कर सके.

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि किसी भी प्रकार का असंतोष जो कर्मचारी की उत्पादकता में कमी लाता है. कर्मचारी परिवेदना नहीं कह सकते हैं. अतः कर्मचारी परिवेदना को समुचित रूप से परिभाषित करना पड़ेगा और कर्मचारी के उसी असंतोष को परिवेदना में सम्मिलित करना होगा जो संस्था के नियंत्रण एवं क्षेत्र में आता है. इसी दृश्टिकोण से अनेक विद्वानों ने परिवेदना, असंतोष को निम्नलिखित प्रकार से परिभाषित किया जाता है.

असंतोष की परिभाषा?

माइकेल जूसियस (Michael Jucius) के अनुसार “असंतोष कम्पनी से संबंधित विषय पर वह सिकायत है जिसे लिखित या मौखिक रूप से व्यक्त कर दिया गया है.”

डेल योडर (Dale Yoder) के अनुसार – परिवेदना कर्मचारी द्वारा प्रस्तुत वह लिखित शिकायत है जिसमे अन्यायपूर्ण व्यवहार के लिए दावा किया गया हो”

असंतोष के लिए जिम्मेदार कारक?

असंतोष से आप क्या समझते हैं जिम्मेदार कारक

कर्मचारी एवं प्रबंधकों दोनों को ही असंतोष हो सकता है तथा प्रत्येक के असंतोष के भिन्न-भिन्न कारण हो सकते हैं. दोनों की परिवेदनाओं या असंतोष के सामान्य कारणों का उल्लेख निम्नलिखित है –

कर्मचारियों में असंतोष (परिवेदना) के कारण?

  • उपयुक्त एवं प्रेरणात्मक मजदूरी विधि का आभाव
  • अन्य कर्मचारियों के सामान कार्य करते हुए भी सामान वेतन ना प्राप्त कर पाना
  • वेतन या मजदूरी की गणना की जटिल विधि होना
  • कार्यानुसार वेतन की अत्यंत नीची दरें होना
  • उत्पादन के बढ़ने के कारण मजदूरी दरों में कटौती करना
  • वेतन या मजदूरी की गणना में गलती होना
  • कार्य असन्तुस्टि
  • दोषपूर्ण ढंग से कार्य विभाजन करना तथा सौपना
  • असंतोषजनक कार्य दशाएं
  • अनुचित एवं पक्षतापूर्ण स्थान्तरण
  • प्रबंधकों द्वारा पदोन्नति में पक्षपात करना
  • सवेतन अवकास के अधिकार के उपयोग में बांधा उपस्थित होना
  • अनुचित ढंग से पदमुक्ति करना
  • फोरमेन, पर्यवेक्षकों अथवा उच्च अधिकारीयों द्वारा अनुचित व्यवहार करना
  • बकाया राशि का सहीं समय में भुगतान ना होना
  • अनुचित ढंग से छटनी करना
  • अनुचित आधारों पर जबरन छुट्टी करना
  • प्रबंधकों द्वारा परिवेदना निवारण में बाधा पहुँचाना
  • किसी अनुबंध या समझौते का सहीं ढंग से निर्वचन न करना

प्रबंधकों की परिवेदना या असंतोष के कारण?

प्रबंधक अथवा संयोजकों को भी कर्मचारियों के विरुद्ध परिवेदनाएं होती है. असंतोष के प्रमुख कारण निम्न है –

  • कर्मचारियों द्वारा सेवा की शर्तों का समुचित ढंग से पालन ना करना
  • आपसी अनुबंधों के शर्तों का पालन ना करना
  • कर्मचारियों के लिए निर्धारित अनुसासन सहिता का पालन नहीं करना
  • संस्था में अनुशासन भंग करना
  • जानबूझकर धीमी गति से कार्य करना
  • हिंसा व तोड़फोड़ को अपनाना या प्रोत्साहित करना
  • श्रम संधों द्वारा किये गए वायदों को पूरा ना करना
  • अनुचित रूप से वेतन एवं अधिसमय वेतन की मांग करना
  • प्रबंधकों के साथ अनुचित एवं अनादरपूर्ण व्यवहार करना
  • कारखाने में संयंत्र संबंधी नियमों की अवहेलना करना
  • संयंत्र में सुरक्षा प्रावधानों की उल्लंघन करना
  • कार्य में बार-बार अनुपस्थित रहना
  • लापरवाही से कार्य करना
  • अनावश्यक रूप से शिकायतों को जन्म देना या झूठी शिकायतें बनाना
  • नए कर्मचारियों को प्रबंधकों के दृश्टिकोण से भ्रमित करना
  • किसी भाषण लेख, पर्चों आदि के द्वारा कर्मचारियों को प्रबंधकों के विरुद्ध भड़काना
  • परिवेदना निवारण करने में टालमटोल करना

असंतोष पद्धति से लाभ?

  • श्रमिकों की सभी समस्याएँ आमने-सामने आने की संभावनाएं बढ़ जाती है.
  • भावनात्मक छूट देने के कारण यह श्रमिकों के दबाव को कम करने में सहायता करता है.
  • समझौता करके प्रबंध व श्रमिकों के मध्य कार्य संबंधित संबंध स्थापित किये जा सकते हैं
  • प्रबंधकों के कार्य के मानवीय पहलु पर अध्ययन करने का अवसर प्रदान करता है
  • इससे समस्या का उग्र रूप धारण नहीं हो पाता और वह समस्या के समाधान करने का प्रयास करता है.

अन्य पढ़ें

असंतोष क्या है?

समस्याओं के हल ना होने पर, मन में जो व्याकुलता व्याप्त होती है उसे असंतोष या परिवेदना कहते हैं.

हमे पूरी उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख…असंतोष से आप क्या समझते हैं? असंतोष के लिए जिम्मेदार कारक? पसंद आया होगा. कृपया करके इस लेख को अधिक से अधिक Shear करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसका लाभ उठा सके. अगर लेख से संबंधित किसी प्रकार की शिकायत हो तो Comment Box के माध्यम से हमें अवश्य कहें.

अगर आप रोजाना इसी तरह के उपयोगी आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप और जीमेल को सस्क्राइब कर ले जिसका लिंक नीचे दिया हुआ है. पढ़ने के लिए और हमारे घंटों की मेहनत को सफल बनाने के लिए – धन्यवाद

Leave a Comment