तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र या पारितंत्र | pond ecosystem in hindi

pond ecosystem in hindi : हमने अपने लेख पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? में पारिस्थितिकी तंत्र को विस्तार से वर्णन किया था। आज के इस लेख तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र क्या है ? में हम पारिस्थितिकी तंत्र के ही एक हिस्से……तालाब की पारिस्थितिकी तंत्र (pond ecosystem in hindi) को सरल रूप में समझेंगें।

विषय-सूची

तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र क्या है? – what is pond ecosystem in hindi

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है…. तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र, तालाब के अंदर का खाद्य श्रृंखला है जिसमे उत्पादक, उपभोक्ता और अपघटक तीनों शामिल होते हैं और खाद्य श्रृंखला को पूरा करते हैं.

उदाहारण के लिए – जलीय पिस्सू को छोटी मछली अपना भोजन बना लेती है. और छोटी मछली को बड़ी मछली, बड़ी मछली को बगुला अपना भोजन बना लेता है इसी तरह तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र (pond ecosystem in hindi) चलता रहता है यही तालाब का पारितंत्र कहलाता है।

तालाब के पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना – pond ecosystem structure hindi

किसी भी पारिस्थितिक तंत्र में 2 प्रकार के घटक होते हैं –

  • जैविक घटक
  • अजैविक घटक

तालाब पारितंत्र में जैविक घटक – Biological components in pond ecosystem

जैसा की आप जानते हैं जैविक घटक के अंतर्गत शामिल है –

  • उत्पादक
  • उपभोक्ता
  • अपघटनकर्ता

उत्पादक – producer

उत्पादक वे वह प्रथम वस्तु आता है जो प्रकाश संश्लेषण की क्रिया कर अपना भोजन स्वयं बनाता है। उत्पादक के प्रकार इस प्रकार हैं –

छोटा सैवाल

क्लेमाईडो मोनास, यूग्लीना, वॉलवॉक्स, वॉलवॉक्स, स्पाइरोगाइरा, डामटम्स, यूडोरिना, माइक्रोसिस्टम सैवाल इत्यादि।

तैराक पौधे

लेम्ना, वोल्फिया, पिस्टीया, स्पाइरोडेला, यूट्रीकुलेरिया, एजोला, साल्विनिया, आईकोर्निया।

तलहटीय पौधे

निलम्बियम, जूसिया, ट्रापा, इत्यादि… इन पौधों के पत्ते तो ऊपर में रहते हैं परन्तु जड़ें तल से लगी हुई होती हैं।

जल निमग्न पौधे

हाइड्रिला, वैलिसनेरिया, इलोडिया, सिरेटोफिल्लम इत्यादि।

जल स्थलीय पौधे

रेननकुलम, सजिटेरिया, टायफा, पोलीगोनम, मोनोकोरिया, ब्युटोमस, फैग्माइटिस, मर्सीलिया इस्क्रीसीटम इत्यादि।

उपभोक्ता – consumer

इसके अंतर्गत वे जीव आते हैं जो अपना भोजन स्वयं नहीं बनाते। ये अपने भोजन के लिए दूसरों पर निर्भर रहते हैं। उपभोक्ताओं का वर्गीकरण सूची नीचे दी गई है –

प्राथमिक श्रेणी के उपभोक्ता

प्लवक जंतु, डाइनोफलेजेलटेस, अत्यंत छोटी मछलियां, घोंघे, अन्य मोलस्क व मच्छरो के लारवा इत्यादि।

द्वितीयक श्रेणी के उपभोक्ता

मध्य आकार की मछलियां, कीड़े, मेंढक इत्यादि।

तृतीय श्रेणी उपभोक्ता

जलीय शर्प, बड़ी मछलियां।

उच्चतम वर्ग उपभोक्ता

बगुला, बतख, बड़ी मछली इत्यादि (ये सर्वाहारी हैं जो सभी श्रेणियों को भोजन बनाते हैं)

अपघटनकर्त्ता – decomposer

अपघटन कर्ता के अंदर वे जीव आते हैं जो मृत जीवों के अवशेष, सड़े-गले वस्तुओं व पेड़ पौधों के अवशेष को अपना भोजन बनाते हैं। जैसे –

जलीय कवक जीवाणु
एकलिया, आइसोएकलिया, कवक, कोकाई, वैसिलाई, स्पाईरिलाई, इत्यादि जीवाणु।

तालाब के पारितंत्र में अजैविक घटक – abiotic components in a pond ecosystem

तालाब के पारिस्थितिकी तंत्र अजैविक घटक पूरी तरह जल में मिले हुए होते हैं, इसकी सूची नीचे दी गई है –

अकार्बनिक घटक

खनिज तत्व, सूक्ष्म तत्व, वृद्ध तत्व, आयन, धनायन, ऋणाआयन, घुलित गैस इत्यादि।

कार्बनिक घटक

घुलित कार्बोहाइड्रेट, घुलित वसा व मृत अवशेषो के अपघटन द्वारा उत्पन्न उत्पाद व जटिल पदार्थ।

भौतिक पदार्थ

सूर्य-प्रकाश, ताप, हवा, वर्षा इत्यादि।

तालाब के पारितंत्र में ऊर्जा का प्रवाह – Energy flow in the pond ecosystem in hindi

तालाब पारितंत्र में ऊर्जा प्रवाह –

तालाब पारितंत्र ऊर्जा प्रवाह चार्ट
सूर्य का प्रकाश व विभिन्न तत्व
प्राथमिक उत्पादक
प्रथम श्रेणी के उपभोक्ता
द्वितीय श्रेणी के उपभोक्ता
तृतीय श्रेणी के उपभोक्ता
उच्चतम श्रेणी के उपभोक्ता
अपघटनकर्ता

pond ecosystem in hindi को video के माध्यम से समझें

FAQ

तालाब का पारिस्थितिक तंत्र क्या है?

तालाब का पारिस्थितिक तंत्र तालाब के अंतर्गत सभी जीवधारियों जिसमे उत्पादक, उपभोक्ता और अपघटक शामिल है इसकी खाद्य श्रृंखला है।

पॉन्ड इकोसिस्टम क्या है?

तालाब के अंदर खाद्य श्रृंखला या पारिस्थितिक तंत्र को पॉन्ड इकोसिस्टम (pond ecosystem) कहते हैं।

पारिस्थितिकी तंत्र की विशेषताएं क्या है?

पारिस्थितिकी तंत्र की विशेषता यह है कि इसमें सभी सजीव निर्जीव भाग लेते हैं और एक खाद्य श्रृंखला का निर्माण करते हैं। यह एक दूसरे पर परस्पर निर्भरता की कड़ी है, इसमें से एक भी कड़ी टुटा तो इसका असर सारे पारिस्थितिकी तंत्र पर पड़ेगा।

पारिस्थितिकी तंत्र कितने प्रकार के होते हैं?

पारिस्थितिकी तंत्र मुख्यतः दो प्रकार के हैं जैविक व अजैविक पारिस्थितिकी तंत्र हलाकि इसके अंतर्गत पारिस्थितिकी तंत्र को अन्य कई भागों में बाटा गया है।

अपघटकों का पारितंत्र में क्या कार्य है?

अपघटक मृत जीवों सड़े-गले पेड़ पौधों इत्यादि को अपघटित करने का काम करता है। अगर अपघटक ही नहीं होंगे तो यह पारितंत्र टूट जायेगा जिसका असर पुरे पर्यावरण और पारिस्थितिकी पर पड़ेगा।

आखिर में

उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख तालाब का पारिस्थितिकी तंत्र (pond ecosystem in hindi) पसंद आया होगा। हम इसी तरह के नए-नए लेख आपके लिए लाते रहेंगें जो आपके जीवन में मूल्य डाल सके.

हमारे जोश और उत्साहवर्धन को बढ़ाने के लिए आप हमें सपोर्ट कर सकते हैं… इस लेख को शेयर करके व हमारे टेलीग्राम और gmail को join करके। ताकि हम आपके लिए बेहतर से बेहतर लेख ला सकें।

अगर हमारे लिए कोई शिकायत, सलाह व सुझाव हो तो comment के माध्यम से हमें अवश्य कहें- धन्यवाद,

अन्य पढ़ें

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

Most Popular

close button