छत्तीसगढ़ के मूर्खों के समूह (bunch of fools) – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैं सम्मानित

दोस्तों आज हम एक ऐसे मूर्खों के समूह (झुण्ड, bunch of fools) की बात करेंगें जिनका काम इतना सराहनीय है कि छत्तीसगढ़ के प्रत्येक लोगों को इनपर गर्व तो है ही साथ ही यह पुरे भारत के लिए भी गर्व की बात है, जी हाँ हम बात कर रहे हैं बंच ऑफ फूल्स (bunch of fool) की टीम की तो चलिए इनके बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। 

ज्यादातर लोगों को यह पता नहीं होगा की आखिर यह बंच ऑफ फूल्स (bunch of fools) है क्या तो सबसे पहले यह जान लेते हैं कि बंच ऑफ फूल्स क्या है (what is bunch of fools) इसका उत्तर है बंच ऑफ फूल्स ऐसे लोगों का समूह team है जो अलग-अलग गंदे जगहों पर सफाई अभियान चलाते है ये लोग खुद ही उन जगहों की साफ-सफाई करते हैं और ना ही सफाई करते हैं बल्कि उस जगह पर जागरूकता अभियान चलाते हैं। 

इनकी सफाई अभियान की तरीकों की जितनी तारीफ की जाये उतना कम है उन तरीकों को हम नीचे जानेगें पर उससे पहले यह जान लेते हैं कि आखिर यह बंच ऑफ फूल्स (bunch of fools) बना कैसे। 

BUNCH OF FOOLS (बंच ऑफ फूल्स)

सुरुवात : 2 नवम्बर 2014 (प्रधानमंत्री सफाई योजना से प्रेरित होकर)

Founder : 

  • सतीश भुवालक 
  • सचिन भुवालक 
  • मुकेश राठी 
  • सन्नी जैन 
  • प्रशांत कोच्चर 
Bunch of fools का मिशन : 100% स्वस्छता 
Bunch of fools की achievements : 75 से भी अधिक उपलब्धिया 
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सम्मानित 
  • 2015 में मुंबई में स्वस्छता सेनानी अवार्ड (प्रधानमंत्री द्वारा तारीफ)
  • तारक मेहता का उल्टा चश्मा सीरियल की team द्वारा भी सम्मानित किया जा चूका है इस तरफ अनेक उपलब्धियां बंच ऑफ फूल्स के पास है। 
स्वयं सेवक (Volunteers) : 250 से भी अधिक 
जगह (Spots) : 275 से भी अधिक 
Days of help : 2000 से भी अधिक 
Office : Near jain mandir, gali no.4 fafadih Raipur (c.g.)
Official website : bunchoffools.com

बंच ऑफ फूल्स का नामकरण कैसे हुआ 

जैसा की ऊपर बताया गया है कि बंच ऑफ फूल्स की स्थापना कब हुई तो चलिए अब यह जान लेते हैं कि आखिर bunch of fools नाम ही क्यों रखा गया इस टीम का। तो इसके पीछे का कारण यह है कि लोगों द्वारा सुरवात के समय में इनका खूब मजाक उड़ाया गया चुकि सुरुवात में यह कोई बड़ी टीम नहीं थी। 
 
इनका मानना है कि पढ़े-लिखे मुर्ख लोग ही गन्दगी फैलाते हैं, और कोई सफाई के लिए कदम उठाये तो उन्हें मुर्ख समझा जाता है। इसलिए इन्होने स्वयं अपना नाम bunch of fools रख लिया जिसका हिंदी मतलब मूर्खों का झुण्ड होता है। हालांकि बाद में यह team बड़ी होती गयी और जिन लोगों ने इनका मजाक उड़ाया था वे लोग भी बाद में इस team का हिस्सा बन गए। आज के समय में इस team में बड़े-बड़े अधिकारी से लेकर व्यापारी तक जुड़े हुए हैं। 

बंच ऑफ फूल्स की खासियत या विशेषता 

  • जैसा की ऊपर बताया गया है ये केवल सफाई ही नहीं करते बल्कि उस जगह पर जागरूकता अभियान (नाटक, नुक्कड़) करते हैं। और अपनी पेंटिंग कला के माध्यम से सभी गन्दी जगहों पर अनमोल विचार या अनमोल प्रेरक चित्रों को बनाकर समाज को नई नई सीख देते हैं। 
  • Bunch of fools team की खास बातों में से एक यह है जो मुझे इनका दीवाना बना देता है और शायद आपको भी बना देगा और वो यह है कि ये team सफाई करना, सभी गन्दी जगहों पर शानदार पेंटिंग करना यह सब काम केवल अपने खर्चे पर करती है। ये किसी से एक पैसा भी नहीं लेती अगर कोई इनकी मदद करना चाहता है तो वह अपना श्रमदान देकर सहयोग कर सकता है यह बंच ऑफ फूल्स का मानना है जो बहुत ही सराहनीय है। 
  • बंच ऑफ फूल्स टीम केवल सफाई पर ही नहीं रुके ये बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना व जल बचाओ योजना तथा छोटे दुकानदारों को डस्टबिन बाटना जैसे अनेक भलाई के कार्यों में लगे हुए हैं। 
  • इनकी सफाई करने का तरीका भी अत्यंत सराहनीय है ये पहले प्लान बनाते हैं फिर रविवार के दिन सुबह से सफाई कार्यों में लग जाते हैं। जिस दिनांक में सफाई करते हैं उस दिन का समय इत्यादि को नोट कर लेते हैं और निरंतर उस जगह की जांच पड़ताल करते रहते हैं ये केवल एक बार सफाई करके भूल नहीं जाते। इस तरह से खास स्वस्छता योजना के लिए दिल से इस टीम को बधाई। 
  • रायपुर में bunch of fools की टीम द्वारा महा पुरुषों की मूर्तियों की सफाई पुताई की और फोटो खींच कर twitter पर डाला गया जिसे प्रधान मंत्री नरेंद्र जी ने री-ट्वीट किया इसे देखकर तात्कालिक मुख्यमंत्री रमन सिंह जी ने बंच ऑफ फूल्स टीम की मदद के लिए आगे आये और उनका official website लांच किया। 
मेरा अनुरोध है कि आप लल्लनटॉप की इस वीडियों को जरूर देखें और bunch of fools – मूर्खों के इस समूह के कार्य के लिए अपनी प्रतिक्रिया दें 
 
अंत में बस इतना कहना चाहूंगा कि इस पोस्ट को सभी दोस्तों परिजनों से shear अवश्य करें और स्वस्छता के प्रति जागरूकता फैलाएं व सफाई में अपना योगदान दें साथ ही comment box का उपयोग करते हुए अपनी अमूल्य प्रतिक्रिया जरूर दें, बताएं की आपकी क्या राय है इस मूर्खों के समूह – BUNCH OF FOOLS के बारे में – धन्यवाद,

2 thoughts on “छत्तीसगढ़ के मूर्खों के समूह (bunch of fools) – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैं सम्मानित”

Leave a Comment