भारतीय उपमहाद्वीप में कृषि के प्राचीनतम साक्ष्य कहाँ प्राप्त हुए हैं?

नवीनतम खोजों के आधार पर भारतीय उपमहाद्वीप में प्राचीनतम कृषि साक्ष्य वाला स्थल उत्तर प्रदेश के संत कबीर नगर जिले में स्थित लहुरादेव हैं. यहाँ से 8000 ई.पू. से 9000 ई. पू. मध्य के चावल के साक्ष्य प्राप्त हुए हैं.

उल्लेखनीय है की इस नवीनतम खोज के पूर्व भारतीय उपमहाद्वीप का प्राचीनतम कृषि साक्ष्य वाला स्थल मेहरगढ़ (पाकिस्तान के बलूचिस्तान में स्थित, यहाँ से 7000 ई.पू. के गेहूं के साक्ष्य मिले हैं) जबकि प्राचीनतम चावल के साक्ष्य वाला स्थल कोल्डिहवा (इलाहाबाद जिले में बेलन नदी के तट पर स्थित, यहाँ से 6500 ई.पू. के चांवल की भूसी के साक्ष्य मिले हैं) माना जाता था.

उपरोक्त सन्दर्भों में अब यदि विकल्प में लहुरादेव रहता है, तो उपयुक्त विकल्प वही होगा परन्तु लहुरादेव विकल्प में ना होने की स्थिति में इसका उत्तर पूर्व की भाती होगा.

भारतीय उपमहाद्वीप में कृषि के प्राचीनतम साक्ष्य कहाँ प्राप्त हुए हैं?

लहुरादेव

हमे पूरी उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख…भारतीय उपमहाद्वीप में कृषि के प्राचीनतम साक्ष्य कहाँ प्राप्त हुए हैं? पसंद आया होगा. कृपया करके इस लेख को अधिक से अधिक Shear करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसका लाभ उठा सके. अगर लेख से संबंधित किसी प्रकार की शिकायत हो तो Comment Box के माध्यम से हमें अवश्य कहें.

अगर आप रोजाना इसी तरह के उपयोगी आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप और जीमेल को सस्क्राइब कर ले जिसका लिंक नीचे दिया हुआ है. पढ़ने के लिए और हमारे घंटों की मेहनत को सफल बनाने के लिए – धन्यवाद

Leave a Comment